अल्मोड़ा के प्रसिद्ध दर्शनीय स्थल || Almora Main Ghumne Ki Jagah In Hindi

 अल्मोड़ा के प्रसिद्ध दर्शनीय स्थल Almora main ghumne ki jagah in Hindi

हेलो दोस्तों स्वागत है आपका हमारे ब्लॉग की आज की नई पोस्ट में जिसमें हम भारत के स्वर्ग समान राज्य यानी कि उत्तराखंड के जिले के बारे में जानकारी साझा करने वाले हैं दरअसल उत्तराखंड अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए केवल देश में ही नहीं अपितु विदेशों में भी प्रसिद्ध है इसकी प्राकृतिक सुंदरता पर्यटकों का आकर्षण का केंद्र बना हुआ है और हम बात करने वाले हैं उत्तराखंड राज्य के अल्मोड़ा जिले के बारे में और इसी पोस्ट में हम यह भी जानेंगे कि अल्मोड़ा जिले के स्थानिया भोजन कौन-कौन से हैं और वहां घूमने का  अच्छा समय कौन सा रहेगा तो प्लीज इस आर्टिकल को अंत तक पड़ेगा

उत्तराखंड के प्रसिद्ध मंदिर कुमाऊं के प्रसिद्ध मंदिर अल्मोड़ा जिला गंतव्य मुक्तेश्वर पर्यटन स्थलों का भ्रमण उत्तराखंड में धार्मिक पर्यटन अल्मोड़ा शहर Temple in almora कटारमल सूर्य मंदिर अल्मोड़ा के प्रसिद्ध मंदिर रानीखेत के दर्शनीय स्थल अल्मोड़ा हिल स्टेशन नैनीताल जिले में पर्यटन स्थल
Image Source By – Commons

अल्मोड़ा almora

अल्मोड़ा भारत के उत्तराखंड राज्य का खूबसूरत जिला है जो कि चारों तरफ से पहाड़ और हिमालय पर्वत के निकट बसा हुवा है अल्मोड़ा केवल उत्तराखंड का एक जिला ही नहीं है अपितु  यह एक जाना माना पर्यटक स्थल भी है समुद्र तल से 651 मीटर की ऊंचाई पर बसा अल्मोड़ा अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है यदि अल्मोड़ा के जल वायु की बात की जाए तो आपको बता दें कि अल्मोड़ा की जलवायु समशीतोष्ण है जिसमें यहां का तापमान सामान्य बना रहता है जिसमें वर्ष का औसत तापमान 23. 5 डिग्री सेल्सियस बना रहता है तथा वर्ष का सबसे गर्म महीना जून रहता है जिसमें यहां का तापमान 31.1 डिग्री सेल्सियस के आसपास बना रहता है साथ ही वर्ष का सबसे ठंडा महीना जनवरी होता है जिसमें यहां का तापमान लगभग लगभग 13 डिग्री सेल्सियस के आसपास बना रहता है यदि जिले में बोले जाने वाली भाषा की बात करें तो आपको बता दें कि अल्मोड़ा जिले में मुख्य रूप से कुमाऊनी भाषा बोली जाती है साथ ही गढ़वाली बोली और हिंदी भाषा का प्रयोग भी जिले के लोग वार्तालाप के रूप में करते रहते हैं  

यह भी पड़े – दार्जिलिंग में घूमने की जगह , दार्जिलिंग के प्रसिद्ध दर्शनीय स्थल

अल्मोड़ा का इतिहास History Of Almora

चलो एक नजर अल्मोड़ा के इतिहास पर भी डाल देते हैं लेकिन उससे पहले हमें भारत के इतिहास पर जाना होगा वहीं से हमें पता चल जाएगा कि आखिर अल्मोड़ा का इतिहास क्या रहा है भारतीय इतिहास को मध्य नजर रखते हुए देखा जाए तो पता चलता है कि चंद्र राजवंश के राजा वाले कल्याण चंद्र ने अल्मोड़ा जिले को 1563 में आलमनगर के नाम से बसाया और अल्मोड़ा को भलीभांति जाना और फिर उन्होंने अपनी राजधानी चंपावत से बदलकर आलमनगर यानी कि अल्मोड़ा की थी इसके बाद 1563 से लेकर अंग्रेजों के समय तक इस जिले में कई घटनाएं घटी और इस क्षेत्र का धार्मिक और भौगोलिक के साथ-साथ ऐतिहासिक क्षेत्र में भी परिवर्तन  होते रहे सन 1816 में गारखा और अंग्रेजों के बीच युद्ध छिड़ा और अंग्रेजों ने आलमनगर पर अपना कब्जा कर लिया

अल्मोड़ा जिले का स्थानीय भोजन Local food of Almora district

स्वाद के शौकीन के लिए अल्मोड़ा जिले का स्थानीय खानपान बड़ा ही अच्छा रहेगा क्योंकि यहां के भोजन की व्यंजनों में जो स्वाद है वह स्वाद आपको और जगह नहीं मिलेगा क्योंकि यहां के लोग हर चीज को वह बड़े ही प्यार से बनाते हैं और इसी स्वाद को शिखर तक पहुंचाते हैं यहां के शुद्ध और घरेलू मसाले और उनके अलावा यहां की शुद्ध सब्जियां  , चलो अब देख लेते हैं कि यहां के प्रसिद्ध स्थानीय भोजन के व्यंजन कौन-कौन से हैं

झंगोरें की खीर – अल्मोड़ा के प्रसिद्ध व्यंजन झांगोरें की खीर काफी प्रसिद्ध है यह नॉर्मल खीरे की ही तरह बनता है लेकिन इसमें चावल की जगह यहां का स्थानीय अनाज झांगोरा को मिलाकर बनाया जाता है और यही झंगोरा इसके स्वाद को 4 गुना बढ़ा देता है इसका प्रयोग आप कभी भी कर सकते हैं यदि आप अल्मोड़ा ट्रिप पर है तो आपको इस व्यंजन का  स्वाद जरूर लेना चाहिए

भांग की चटनी – भांग की चटनी अल्मोड़ा की प्रसिद्ध चटनी है इसे भांग को पीसकर बनाया जाता है और यह बड़ा ही स्वादिष्ट होता है यदि इस चटनी में भांग की मात्रा बढ़ा दी जाती है तो इससे नशा भी लगता है क्योंकि भांग नशे के काम भी आता है इसलिए इसका उपयोग सीमित मात्रा में किया जाता है

पहाड़ी दाल भात – यह व्यंजन उत्तराखंड में पाए जाने वाले पहाड़े दलों को मिलाकर बनाया जाता है तथा इस व्यंजन के साथ नॉर्मल चावल जैसे बनता है वैसे ही बनाया जाता है लेकिन दाल काफी स्वादिष्ट होती है क्योंकि इसमें सभी पहाड़ी दाल मिक्स की होती है

यह भी पड़े – हनीमून के लिए सबसे सस्ती जगह, Honymoon Destination In India

अरसा – अरसा मुख्य रूप से उत्तराखंड का लोकप्रिय व्यंजन है जिसे लोग शादी के मौसम में बनाते हैं लेकिन कभी-कभी यह हर समय उपलब्ध मिल जाता है दरअसल यह चावल को पीसकर बनाया जाता है और सेम लाइक पकोड़ो की तरह इसे भी तेल में चला जाता है

मंडवे की रोटी – मंडवे कि आटे की रोटी अल्मोड़ा और आसपास के जिलों का प्रसिद्ध व्यंजन है यह शुद्ध घरेलू  मंडुवे के आटे से बनता है जो कि खाने में बड़ा ही स्वादिष्ट होता है और इससे हमारे शरीर को काफी मात्रा में लाभ प्राप्त होते हैं

कंडेली की भुज्जी – कंडेली की भुज्जी उत्तराखंड वासियों का प्रसिद्ध व्यंजन है इसे कंडेली  के माध्यम से बनाया जाता है और यह सेम लाइक पालक की भुज्जी की तरह होता है लेकिन स्वाद में यह बड़ा ही स्वादिष्ट होता है यदि मंडुवे की रोटी और कंडेली के भुज्जी को साथ में खाया जाए तो इसके सामने सभी देसी व्यंजन फीके पड़ जाते हैं क्योंकि यह दोनों बड़े ही स्वादिष्ट होते हैं

अल्मोड़ा के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल Best Place For Travel To Almora In Hindi

झूला देवी मंदिर – अल्मोड़ा के प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों एवं मंदिरों में सर्वप्रथम स्थान पर झूला देवी मंदिर का नाम आता है यह अल्मोड़ा में रानीखेत के पास स्थित है और यह आसपास के क्षेत्र का सबसे प्रसिद्ध मंदिर है यह मंदिर देवी दुर्गा को समर्पित है इस मंदिर के बारे में बताया जाता है कि यह 700 वर्ष पुराना है और इस मंदिर में देवी दुर्गा को पालने में देखा जाता है इसलिए इस मंदिर का नाम झूला देवी मंदिर रखा गया है इस मंदिर में आने वाले सभी भक्तों की मनोकामना जरूर पूर्ण होती है और उसके बाद जब भक्त इस मंदिर में दोबारा लौटते हैं तो बता दें कि वह तांबे की घंटी मंदिर में चढ़ाया करते हैं इसलिए यह देश का प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है

यह भी पड़े – राजस्थान में घूमने की जगह || Best Place For Travel To Rajisthan

कसार देवी मंदिर – अलौकिक शक्ति का प्रत्यक्ष प्रमाण आंखों के सामने देखा जाता है और यही चमत्कार पाया जाता है उत्तराखंड की कसार देवी मंदिर में जहां भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है दरअसल कसार देवी मंदिर उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले में स्थित है जो कि 8 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है यह मंदिर कसार देवी को समर्पित है और कसार देवी की शक्तियों का एहसास मंदिर के चारों दिशा में स्थित कर्ण कर्ण से अनुभव किया जा सकता है कसार एक गांव है और गांव में पर्वत के ऊपर बना है यह मंदिर इस मंदिर में ढाई हजार साल पहले कसार देवी ने दो राक्षसों का वध किया था इसके बाद यह मंदिर बड़ा ही प्रसिद्ध और आस्था का केंद्र माना जाता है

उत्तराखंड के प्रसिद्ध मंदिर कुमाऊं के प्रसिद्ध मंदिर अल्मोड़ा जिला गंतव्य मुक्तेश्वर पर्यटन स्थलों का भ्रमण उत्तराखंड में धार्मिक पर्यटन अल्मोड़ा शहर Temple in almora कटारमल सूर्य मंदिर अल्मोड़ा के प्रसिद्ध मंदिर रानीखेत के दर्शनीय स्थल अल्मोड़ा हिल स्टेशन नैनीताल जिले में पर्यटन स्थल
Image Source By – Commons

अनासक्ति आश्रम – अल्मोड़ा के पर्यटन स्थलों में अनासक्ति आश्रम का नाम भी कम प्रसिद्ध नहीं है यह अल्मोड़ा जिले के कौसनी में पड़ता है जो कि दिखने में बड़ा ही खूबसूरत दिखाई देता है और इस आश्रम को गांधी आश्रम के नाम से भी जाना जाता है बताया जाता है कि इस आश्रम में गांधीजी स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान आए थे और जब सुबह गांधीजी इस आश्रम में योग कर रहे थे तब उन्हें हिमालय पर्वत का खूबसूरत दृश्य दिखा और वह उसके आसपास के वातावरण से बहुत प्रभावित हुए और तब है 2 दिन के वजह पूरे 14 दिन इस आश्रम में रुके और फिर उन्होंने अनासक्ति योग पुस्तक को भी पूरी लिखा और साथ में इसे हिंदी महाकाव्य के प्रमुख कवि सुमित्रानंदन पंत का निवास स्थान भी माना जाता है इस आश्रम में बर्फ से ढके पर्वत और सुंदर हिमालय के अलावा त्रिशूल पर्वत और नंदा देवी का आकर्षक दृश्य दिखाई देता है 

उत्तराखंड के प्रसिद्ध मंदिर कुमाऊं के प्रसिद्ध मंदिर अल्मोड़ा जिला गंतव्य मुक्तेश्वर पर्यटन स्थलों का भ्रमण उत्तराखंड में धार्मिक पर्यटन अल्मोड़ा शहर Temple in almora कटारमल सूर्य मंदिर अल्मोड़ा के प्रसिद्ध मंदिर रानीखेत के दर्शनीय स्थल अल्मोड़ा हिल स्टेशन नैनीताल जिले में पर्यटन स्थल
Image Source By – Commons

द्वाराहाट – द्वारहाट भी एक बड़ी ही खूबसूरत जगह है जहां पर्यटक प्राकृतिक सुंदरता के साथ-साथ यहां स्थित प्रमुख धार्मिक स्थलों के दर्शन भी कर सकते हैं यदि आप प्रकृति प्रेमी के साथ-साथ धार्मिक व्यक्ति या आपको मंदिरों का दर्शन करना पसंद है तो यह जगह आपके लिए परफेक्ट है क्योंकि यहां का प्राकृतिक सुंदरता बर्फ से लेकर पहाड़ और पानी की झीलों के साथ साथ फूलों की घाटियों के दर्शन भी कर सकते हैं आप चाहे तो यह अपने दोस्तों और परिवार के साथ भी आ सकते हैं क्योंकि यह आपके आपको एक शुद्ध और अच्छा वातावरण के साथ-साथ अच्छे  प्रवृत्ति के लोग भी मिलेंगे

उत्तराखंड के प्रसिद्ध मंदिर कुमाऊं के प्रसिद्ध मंदिर अल्मोड़ा जिला गंतव्य मुक्तेश्वर पर्यटन स्थलों का भ्रमण उत्तराखंड में धार्मिक पर्यटन अल्मोड़ा शहर Temple in almora कटारमल सूर्य मंदिर अल्मोड़ा के प्रसिद्ध मंदिर रानीखेत के दर्शनीय स्थल अल्मोड़ा हिल स्टेशन नैनीताल जिले में पर्यटन स्थल
Image Source By – Commons

रिवर राफ्टिंग – अल्मोड़ा की यात्रा ट्रिप पर आप रिवर राफ्टिंग का मजा भी ले सकते हैं जिन लोगों को रिवर राफ्टिंग का शौक है वह लोग अल्मोड़ा जिले को भी अपनी यात्रा सूची में जोड़ सकते हैं यह आप काली शारदा नदी में शिखर राफ्टिंग का आनंद ले सकते हैं चारों तरफ पहाड़ पर्वत और बर्फ से ढके हिमालय के बीच यदि रिवर राफ्टिंग की व्यवस्था मिलती है तो मानो यह कितनी खूबसूरत जगह होगी जहां प्रकृति के साथ-साथ अपने शौक को भी पूरा किया जा सकता है

यह भी पड़े – ऋषिकेश के प्रसिद्ध दर्शनीय स्थल || Rishikesh Ke Prashid Darshniya Isthal

उत्तराखंड के प्रसिद्ध मंदिर कुमाऊं के प्रसिद्ध मंदिर अल्मोड़ा जिला गंतव्य मुक्तेश्वर पर्यटन स्थलों का भ्रमण उत्तराखंड में धार्मिक पर्यटन अल्मोड़ा शहर Temple in almora कटारमल सूर्य मंदिर अल्मोड़ा के प्रसिद्ध मंदिर रानीखेत के दर्शनीय स्थल अल्मोड़ा हिल स्टेशन नैनीताल जिले में पर्यटन स्थल
Image Source By – Pixabay

अल्मोड़ा घूमने का सबसे अच्छा समय Best Time For Go to Almora

अल्मोड़ा एक पहाड़ी राज्य उत्तराखंड का जिला है जो हिमालय के पास स्थित पहाड़ी में बसा है इसलिए यहां का मौसम हमेशा ठंडा रहता है यदि मौसम की दृष्टि से देखें तो शहर की तपती गर्मी से बचने के लिए  यदि पर्यटक छुट्टियों का इंजॉय करने अल्मोड़ा आते हैं तो मई जून का महीना सबसे बढ़िया रहेगा क्योंकि मई जून के महीने में यहां का मौसम अच्छा बना रहता है और इन्हीं महीनों के बीच इस की प्राकृतिक सुंदरता भी बहुत आकर्षण लगती है हर चीज हरि भरी और काफी सुंदर लगती है और यदि आपको बर्फ स्नोफॉल देखने का शौक है तो आप दिसंबर जनवरी में यहां की यात्रा कर सकते हैं 

अल्मोड़ा में रुकने के लिए होटल Hotels in Almora

यात्रा में आपको कुछ दिन यहां रुकना पड़ सकता है इसलिए हम आपको कुछ ऐसे होटल्स बता रहे हैं जो स्वच्छ और सस्ते होने के बावजूद भी सभी मूलभूत व्यवस्था उन होटलों में रहती है तो चलिए जान लेते हैं कि वह होटल कौन-कौन से हैं

  • बंसल गेस्ट हाउस एंड रेस्टोरेंट
  • लिटिल वर्ल्ड कूलन
  • आदर्श होटल
  • होटल जलाल प्लेस
  • होटल शिखर 

अल्मोड़ा कैसे पहुँचें How to Reach Almora

यदि आप अल्मोड़ा की यात्रा करना चाहते हैं तो यह शहर रोड मार्ग, वायु मार्ग, तथा रेल मार्ग, तीनों मार्ग से पूरी तरह कनेक्ट है आप किसी भी मार्ग के जरिए यहां तक पहुंच सकते हैं लोकल क्षेत्र की यात्रा आपको पर्सनल गाड़ी या किसी अन्य साधन के द्वारा करनी होगी
 सड़क मार्ग– यदि सड़क मार्ग के जरिए अल्मोड़ा पहुंचना चाहते हैं तो यह शहर देश की राजधानी दिल्ली से लगभग 375 किलोमीटर की दूरी पर तथा वही देहरादून से यह शहर 362 किलोमीटर की दूरी पर है साथ ही उत्तराखंड के रामनगर से यह शहर 129 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है
 रेल मार्ग – रेल मार्ग से भी अल्मोड़ा पहुंचा जा सकता है अल्मोड़ा का नेयर रेलवे स्टेशन  काठगोदाम है जो  कि दिल्ली से 296 किलोमीटर की दूरी तय करती है साथ ही देहरादून से 277 किलोमीटर की दूरी तय कर के अल्मोड़ा पहुंचा जा सकता है

वायु मार्ग – वायु मार्ग की बात करें तो अल्मोड़ा का नियर एयरपोर्ट पंत नगर एयरपोर्ट है जो कि अल्मोड़ा से 116  किलोमीटर की दूरी पर स्थित है यहां से आपको सभी प्रदेश की घरेलू उड़ानें मिल जाएगी
 

Leave a Comment

Chat For Book Trip